Poem – बारिश आई छम छम छम …

0
1520

बारिश आई छम छम छम ,

लेकर छाता निकल पड़े हम ,

पैर फिशला गिर गए हम ,

ऊपर छाता नीचे हम ||